विश्व की प्रमुख जनजातियां ( Major tribes of the world )

एभोरमंगोलियाई रक्त वाले लोग जो असम में रहते हैं।
अफ्रीदी उत्तर-पश्चिमी सीमांत राज्य (पाकिस्तान) में रहने वाली जनजाति
बांटूमध्य और दक्षिण अफ्रीका में रहने वाले नीग्रो
बोरदक्षिण अफ्रीका के डच निवासी
कोसेकरूस के दक्षिणी और पूर्वी सीमा के रहने वाले लोग
एस्किमोग्रीनलैंड और आर्कटिक क्षेत्र के निवासी
फ्लेमिंगबेल्जियम के लोगों के लिए प्रयुक्त शब्द
हेमीटसउत्तर-पश्चिम अफ्रीका के निवासी
खिरगिज मध्य एशिया में रहने वाले लोग
कुर्दकुर्दीस्तान (ईराक) में रहने वाली जनजाति
मग्यास हंगरी के निवासी
माओरिसन्यूजीलैंड के निवासी
नीग्रोअधिकांशतः अफ्रीका में पाये जाते हैं
पिगमीअफ्रीका के कांगो बेसिन में पाये जाने वाले कम लंबाई वाले लोग
रेड इंडियनउत्तर अमेरिका के वास्तविक निवासी
सेमिटप्राचीन काल के कोकेसियन लोग
जुलूनताल के कुछ हिस्सो में रहने वाले दक्षिण अफ्रीका के लोग
Share this page

विश्व के प्रमुख जलप्रपात ( Major waterfalls of the world )

जलप्रपातस्थान
एंजिल वेनेजुएला
तुगेलानताल, दक्षिण अफ्रीका
क्यूकेननवेनेजुएला
साउथरलैंडन्यूजीलैंड
रिब्बनकैलिफोर्निया, अमेरिका
निआग्राअमेरिका-कनाडा सीमा
डेलाकनाडा
गैवर्नीदक्षिण-पश्चिम फ्रांस
वेटिसफोसनार्वे
जोगभारत
विक्टोरियाजाम्बिया (अफ्रीका)
Share this page

विश्व की वनस्पतियों का वर्गीकरण (Classification of flora of the world)

ट्रोपोफाइट : उष्ण कटिबंधीय पेटी की वन तथा घास वाली वनस्पतिया । 

हाइड्रोफाइट : जलीय सतह पर उगने वाली वनस्पतियां । 

जेरोफाइट : उष्ण कटिबंधीय मरूस्थलीय क्षेत्रों में पायी जाने वाली वनस्पतियां। 

मेसोफाइट : शीतोष्ण कटिबंधीय टैगा वनस्पतियां । 

क्रायोफाइट : नमकीन मृदा में उगने वाली वनस्पतियां जैसे—मैंग्रोव । 

लिथोफाइट : कठोर चट्टानों पर उगने वाली वनस्पतियां । 

पायरोफाइट : अग्नि प्रतिरोधी वनस्पतियां (सवाना क्षेत्र की)

Share this page

नदियों के किनारे बसे प्रमुख शहर (विश्व)

शहरदेशनदी
एम्सटर्डमनीदरलैंडअमसेल
अंकारातुर्कीकाज़िल
बैंकाकथाइलैंडचाओ प्रया
बगदादइराकटिगरीस
बर्लिनजर्मनीस्प्री
बोनजर्मनीराईन
बुडापेस्टहंगरीडेन्यूब
ब्रिस्टलयूकेएवन
ब्यूनोस आयर्स अर्जेटिनारियो दी ला लपलाता
कैरोमिस्रनील
डबलीनआयरलैंडलिफ्टी
हैम्बर्गजर्मनी एल्बी
काबुलअफगानिस्तानकाबुल
कराचीपाकिस्तानसिंधु
खार्तुमसूडाननीली और सफेद नील का संगम
लाहौरपाकिस्तान रावी
लेनिनग्राडरूसनेवा
लिशानपुर्तगालटेगस
लिवरपुलइंग्लैंडमेस्सी
लंदनइंग्लैंडथेम्स
मास्कोरूसमस्कावा
मांट्रियलकनाडासेंट लॉरेंस
नॉनकिंगचीनयांग-से-कियांग
न्यूयार्कअमेरिकाहडसन
ओटावाकनाडाओटावा
पेरिसफ्रांस सीने
पर्थऑस्ट्रेलियास्वान
परुग्वेचेक गणराज्यवीतावा
क्यूबेककनाडासेंटलारेंस
रोमइटलीटिबेर
रोटर्डमनीदरलैंडन्यूमास
स्टैलिंग्रादरूसवोल्गा
शंघाईचीनयांग-से-कियांग
सिडनी ऑस्ट्रेलियाडार्लिंग
सेंट लुइसअमेरिकामिसिसिपी
टोक्योजापानअर्कावा
वियनाऑस्ट्रीयाडेन्यूब
वर्सावपोलैंडविस्ताला
वाशिंगटन डीसीअमेरिकापोटोमैक
यंगून म्यांमारइरावदी
Share this page

विश्व की सबसे लंबी नदियां ( World’s longest rivers )

नामस्रोतबर्हिप्रवाहलंबाई (किमी में)
1. नीलविक्टोरिया झील, अफ्रीकाभूमध्य सागर 6,690
2. अमेजनग्लेशियर फेड झील, पेरूअटलांटिक महासागर 6,296
3. मिसिसिप्पी-मिसौरीरेड रॉक, मोंताना, (यूएसए)मेक्सिको की खाड़ी6,240
4. यांगजी-कियांगतिब्बत का पठार, चीनचीन सागर 5,797
5. ओबअल्तई पर्वत, रूसओब की खाड़ी 5,567
6. येलो (हुवांग हो)कुनिना पर्वत का पूर्वी भाग पश्चमी चीन चिली की खाड़ी 4,667
7. येनिसेलतन्नु-ओला पर्वत, पश्चमी तुवा, रूसआर्कटिक महासागर 4,506
8. परानापारानैबा और गरनाड नदी का संगम, ब्राजीलरियो डे ला प्लांटा 4,498
9. इर्टिशअल्तई पर्वत, रूस ओब नदी4,438
10. कांगोलुआलाबा और लुआपुला नदी का संगम, जायरेअटलांटिक महासागर4,371
Share this page

महाद्वीप की सर्वोच्च चोटियां ( Continent’s highest peaks )

महादेशचोटीऊंचाई (मी. में)देश
एशिया माउंट एवरेस्ट 8,848नेपाल
द. अमेरिका माउंट अकांकागुआ6,960 अर्जेटीना
उ. अमेरिकामाउंट मिकिनले6,194अलास्का
अफ्रीकामाउंट किलिमंजारो5,895तंजानिया
यूरोपमाउंट एल्ब्रस5,663रूस
अंटार्कटिका माउंट विंसन5,140अंटार्कटिका
ऑस्ट्रेलियामाउंट कोसीजको2,230ऑस्ट्रेलिया
Share this page

महाद्वीप ( Continent )

सात महाद्वीपों को उनके आकार व क्षेत्रफल के अनुसार निम्न प्रकार से दर्शाया जा सकता है : 

1. एशिया 

2. अफ्रीका 

3. उत्तर अमेरिका 

4. दक्षिण अमेरिका 

5. अंटार्कटिका 

6. यूरोप 

7. ऑस्ट्रेलिया

एशिया

जनसंख्या व क्षेत्रफल दोनों की दृष्अि से यह विश्व का सबसे बड़ा महाद्वीप है। 

मुख्य पर्वत श्रृंखलाएं और चोटियां : हिमालय, काराकोरम, कुनलुन, हिन्दुकुश, तिएनशान, एलब्रूज, अल्तई, टॉरस, सुलेमान, उरल 

उच्चतम चोटी : माऊंट एवरेस्ट (8847 मीटर), नेपाल 

मुख्य नदियां : यांग्टेज, हांग, अमुर, लेना, ऑब, येकूग, येनिसई, ईर्टीश, सिंधु, ब्रह्मपुत्र, इरावदी इरावदी नदी को म्यांमार की जीवन रेखा माना जाता है। ह्यांग हो नदी को चीन का शोक कहा जाता है। 

प्रमुख झीलें : अराल, बैकल, बल्काश, तुंगाटिंग, टोनले साप 

प्रमुख मरूस्थल : गोबी, टकला माकन, कारा-कुम, थार, काइजलकुल 

खनिज स्रोत : कोयला, लौह, मैगनीज, टिन, एंटिमनि, सोना म्यांमार को पर्वतों व नदियों का देश कहा जाता है । 

यह सुंदर बौद्ध मंदिर पैगोडा के लिए जाना जाता है और इसे सोने के पैगोडा का देश भी कहते हैं। पाकिस्तान को नहरों का देश कहते हैं।

बांग्लादेश को नदियों व सहायक नदियों का देश कहते हैं। 

तुर्की को यूरोप का सिकमैन कहा जाता है। 

लेबनान को मध्यपूर्व का स्विट्जरलैण्ड कहते हैं। 

भूटान को थंडर ड्रैगन का देश कहते हैं। 

थाईलैंड को सफेद हाथियों का देश कहते हैं। 

दक्षिण कोरिया को प्रातः प्रशांत मंडल (Land of morning calm) का देश कहते हैं। 

जापान को उगते सूर्य (Land of rising sun) का देश कहते हैं। 

ओसाका को जापान का मैनचेस्टर कहा जाता है।

अफ्रीका

यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महाद्वीप है और यूरोप से तीन गुना बड़ा है। 

यह विषुवतरेखा के दोनों ओर फैला हुआ है। 

यह एकमात्र महादेश है जहां से कर्करेखा व मकर रेखा दोनों गुजरती हैं।

मुख्य पर्वत और चोटियां : किलिमंजारो, रूवेनजोरी, एटलस, ड्रकेन्सबर्ग, तिबेस्टी मस्सिफ। 

मुख्य नदियां : नील, कांगो, निगर, जाबेजी, ऑरेंज, कसाई, लिम्पोपो, सेनेगल।

मुख्य मरुस्थल : उत्तर में सहारा (विश्व का सबसे बड़ा), दक्षिण में कालाहारी और नामिब । 

खनिज स्रोत : सोना, हीरा, बॉक्साइट, तांबा, लौह अयस्क, कोबाल्ट, मैग्नीज, यूरेनियम, शीशा, जिंक, एस्बोसिऑस, फॉस्फेट । 

विश्व में उच्चतम तापमान अल-आजीजिया (लीबिया) में 58°

सेंटीग्रेड दर्ज किया गया है जो इसे विश्व का सबसे गर्म स्थान बनाता है। 

नील विश्व की सबसे लंबी नदी है। इसकी दो सहायक नदियां ब्लूनील व व्हाइट नील हैं | 

ब्लूनील इथीयोपिया में ठाना झील से निकलती है जबकि व्हाइट नील यूगांडा के अल्बर्ट झील से निकलती है। ब्लूनील व व्हाइट नील खातूंम (सूडान की राजधानी) में मिलती हैं व वहां से आगे नील के नाम से बहती हैं। एक बड़ा डेल्टा बनाते हुए यह भूमध्य सागर में गिरती है। 

शुतुरमुर्ग कालाहारी मरूस्थल में पाया जाने वाला कम उड़ने व तेज दौड़ने वाला पक्षी है। यह दक्षिण अमेरिका के री व ऑस्ट्रेलिया के एम्यू के समान होता है। 

कोकोआ अफ्रीका की महत्त्वपूर्ण फसलों में से एक है और घाना व नाइजीरिया कोकोआ के सबसे बड़े उत्पादक हैं। 

दक्षिण अफ्रीका सोना (विश्व का 47%), हीरा (विश्व का 95%) और प्लेटिनम का सबसे बड़ा उत्पादक है, जोहांसबर्ग व विटवाटर्सरैण्ड सोने के लिए व किम्बरले हीरे के लिए प्रसिद्ध है। 

झांबीबार विश्व में लवंग (clove) का सबसे बड़ा उत्पादक है। दूसरा स्थान पेम्बा द्वीप का है।

उत्तर अमेरिका

उत्तर अमेरिका आकार में एशिया के आधे से भी कम है।

पर्वत श्रृंखलाएं : द रॉकी (4800 किमी. से अधिक में फैला), अलास्का श्रृंखला, सिएरा माद्रे, सेंट इलियास 

मुख्य नदियां : मिसौरी, मिसिसिप्पी, यूकोन, रियो ग्रांदे, अर्कान्सास, कोलोराडो, लाल, सेंट लॉरेंस 

मुख्य झीलें : सुपीरियर, हुरॉन, मिशिगन, ग्रेटबीयर, ग्रेट स्लेव, विन्निपेग, ओन्टारियो । 

खनिज स्रोत : कोयला, लौह अयस्क, पेट्रोलियम, सोना, चांदी, तांबा न्यूफाउंडलैण्ड के समीप ग्रांड बैंक मछली पकड़ने के लिए प्रसिद्ध है। मछलियों की मुख्य प्रजातियों टुना और सलमान हैं। 

न्यूयार्क को गगनचुम्बी इमारतों का शहर कहा जाता है। हाटर्सफील्ड जैक्सन अटलांटा अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट (अटलांटा, अमेरिका) विश्व का व्यस्ततम एयरपोर्ट है। 

शिकागो रेल जंक्शन विश्व का व्यस्ततम रेल जंक्शन है। 

उत्तर अमेरिका विश्व के कुल गेहूं के 1/5 का उत्पादन करता है। अमेरिका का प्रेयरी क्षेत्र गेहूं और मक्का के लिए प्रसिद्ध है। इन्हें विश्व की रोटी की टोकरी कहते हैं।

दक्षिण अमेरिका

दक्षिण अमेरिका चौथा सबसे बड़ा महाद्वीप हैं | यह आकार में त्रिभुजाकार है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता इसकी एंडीज पर्वत श्रृंखला है जो पूरे महाद्वीप में फैली है।

मुख्य पर्वत श्रृंखलाएं : एंडीज (उच्चतम चोटी अकांकागुआ), ब्राजीलियन हाईलैण्ड, गुआना हाईलैण्ड । 

मुख्य नदियां : अमेजन, पराना, सैन फ्रांसिस्को, ओरिनोको, रियो निग्रो, परग्वे, उरुग्वे, ला प्लाटा

मुख्य मरुस्थल : दक्षिण में अटकामा 

मुख्य झीलें : मराकैबो, टिटिकाका, मिरिम 

खनिज संसाधन : पेट्रोलियम, लौह अयस्क, चांदी, सोना, तांबा, टिन, शीशा, जिंक 

अमेजन के विषुवतीय वर्षा वन महोगनी जैसी लकड़ियों के भण्डारगृह हैं |  साथ विश्व की सबसे हल्की लकड़ी बाल्सा भी इन्हीं वनों से आती है। 

दक्षिण अमेरिका (अमेजन बेसिन) रबर के पेड़ों का केन्द्र है। करनौबा पाम ट्री (ब्राजील), सिनकोना बार्क (कुनैन दवा में प्रयुक्त) और चिकल (च्चींगम में प्रयुक्त) दक्षिण अफ्रीका के विषुवतीय वर्षा वनों के उत्पाद हैं। 

दक्षिण अमेरिका, मैस्किको, केन्द्रीय अमेरिका और वेस्ट इंडीज को संयुक्त रूप से लैटिन अमेरिका कहते हैं।

यूरोप

मुख्य पर्वत श्रृंखलाएं : कौकासस, आल्प्स, पाइरीनिज, नवादा 

मुख्य नदी : वोल्गा, डेन्यूब, निएपर, डॉन, पेकोरा, निएस्टर, राइन

मुख्य झील : लडोगा, ओनेगा, वनीर खनिज संसाधन : कोयला, लौह अयस्क, पारा, बॉक्साइट ग्रेट ब्रिटेन : स्कॉटलैण्ड, वेल्स और इंग्लैण्ड को एकसाथ ग्रेट ब्रिटेन कहा जाता है। 

यूनाइटेड किंगडम : ग्रेट ब्रिटेन और उत्तरी आयरलैण्ड को संयुक्त रूप से यूनाइटेड किंगडम कहते हैं। 

एंटवर्प (बेल्जियम) विश्व का हीरों के व्यापार का सबसे बड़ा केन्द्र फिनलैण्ड को झीलों का देश कहा जाता है। 

यूके का डागर बैंक मछली पकड़ने के लिए प्रसिद्ध है।

ऑस्ट्रेलिया

मुख्य नदी : मरे (2500 किमी) सबसे लंबी नदी है।  इसकी सहायक नदियां डार्लिंग व मर्रमविड्गी हैं। 

खनिज संसाधन : सोना, चांदी, कोयला, लौह अयस्क, शीशा, जिंक बॉक्साइड, तांबा, यूरेनियम और टंगस्टन मैकडोनल और मस्प्रेव श्रृंखला केन्द्रीय ऑस्ट्रेलिया में है।

तस्मानिया सागर ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैण्ड को पृथक करता है। 

ऑस्ट्रेलिया विश्व में बॉक्साइट का सबसे बड़ा उत्पादक है।

अंटार्कटिका

1820 में इसकी खोज हुई थी। 

अंटार्कटिका पहुंचने वाला प्रथम व्यक्ति रोआल्ड अमुदसेन था। 

यह विश्व के बारे में और अधिक जानने का वैज्ञानिकों को अद्वितीय अवसर प्रदान करता है। इसलिए इसे महाद्वीप कहते हैं | 

यह एकमात्र महाद्वीप है जो पूर्णतः जमा हुआ है। इसलिए इसे सफेद महादेश के रूप में जाना जाता है।

Share this page

विश्व जल परिवहन ( world water transport )

महत्वपूर्ण समुद्री मार्ग

1. उत्तर अटलांटिक समुद्री मार्ग : यह उत्तर-पूर्वी अमेरिका और उत्तर-पश्चिमी यूरोप को जोड़ती है। यह विश्व की व्यस्ततम समुद्री मार्ग है और इसे बिग ट्रंक रूट कहते हैं। 

2 भूमध्यसागर-हिन्द महासागार मार्ग : यह समुद्री मार्ग सैद बंदरगाह, अदेन, मुम्बई, कोलंबो और सिंगापुर से होकर गुजरता है। यह व्यापारिक मार्ग अत्यधिक औद्योगीकृत पश्चिमी यूरोपीय क्षेत्र को पश्चिम अफ्रीका, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण-पूर्व एशिया और ऑस्ट्रेलिया व न्यूजीलैंड की वाणिज्यिक कृषि और पशुपालन अर्थव्यवस्थाओं से जोड़ता है। 

3. केप ऑफ गुड होप समुद्री मार्ग : यह अटलांटिक मध्यसागर से जाने वाला एक अन्य महत्वपूर्ण समद्री मार्ग है जो पश्चिम यूरोपीय व पश्चिम अफ्रीकी देशों को दक्षिण अमेराक में ब्राजील, अर्जेंटिना और उरुग्वे से जोड़ता है। 

4 उत्तर प्रशांत गुड होप समुद्री मार्ग : यह समुद्री मार्ग उत्तरी अमेरिका के पश्चिमी तट पर स्थित बंदरगाहों को एशिया से जोड़ता है। ये बंदरगाह हैं वैनकुवर, सीएटल, पोर्टलैंड, सन फ्रांसिस्को और लॉस एंजिल्स जो अमेरिका की तरफ हैं और योकोहामा, कोबे, संघाई, हांगकांग, मनीला और सिंगापुर जो एशिया की तरफ है। 

5. दक्षिण प्रशांत समुद्री मार्ग : यह समुद्री मार्ग पश्चिम यूरोप और उत्तरी अमेरकिा और बिखरे हुए प्रशांत द्वीपों को पनामा नहर के माध्यम से जोड़ता है।

परिवहन नहरें

1. वोल्गा प्रणाली : यह विश्व की एक बड़ी जलप्रवाह प्रणाली है जिसके अंतर्गत 11,200 किमी नौगम्य जलमार्ग उपलब्ध है। वोल्गा-मास्को नहर द्वारा मास्को क्षेत्र को इससे जोड़ा गया है। 

2. पनामा नहर : इस नहर को पनामा भूसंधि को काट कर बनाया गया है। यह प्रशांत महासागर और कैरेबियन सागर को जोड़ती है। इसके प्रशान्त तट पर पनामा तथा कैरेबियन तट पर कोलोन पत्तन अवस्थित है। यह 72 किमी लंबी नहर न्यूयार्क व सैन फ्रांसिस्कों के बीच की दूरी 13000 किमी कम कर देती है। 

3 स्वेज नहर : यह विश्व की सबसे बड़ी नौगम्य नहर है जो भूमध्य सागर को लाल सागर से जोड़ती है। इस पर सबसे उत्तरी पत्तन पोर्ट सईद तथा दक्षिणतम पत्तन पोर्ट स्वेज है। फ्रांसीसी इंजीनियर फर्डिनार्ड डे लसेप ने इस नहर के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह नहर जो 1869 में पूरी हुई, नील नदी के बेसिन के निचले हिस्से को सिनाई प्रायद्वीप से पृथक करती है। इस नहर के सबसे उत्तर में स्थित बंदरगाह पोर्ट सेड और दक्षिणी किनारे पर स्थित बंदरगाह स्वेज है। मध्य में पोर्ट फॉड, पोर्ट टॉफिक और इस्मालिया महत्त्वपूर्ण बंदरगाह हैं। 162 किमी लंबी यह नहर मिस्र की सरकार द्वारा 1956 में राष्ट्रीयकृत की गई। 

4 कील नहर : यह पश्चिमी जर्मनी में उत्तरी सागर को बाल्टिक सागर से जोड़ती है। 

5. स्टालिन नहर/श्वेत बाल्टिक नहर : बाल्टिक सागर को आर्कटिक सागर से जोड़ती है। 

6 राइन-मेन-डेन्युब नहर : यह उत्तरी सागर को काला सागर से जोड़ती है। 

7. सू नहर : यह नहर उत्तरी अमेरिका की सुपीरियर झील को घूरन झील से मिलाती है। 

8. एरी नहर : यह अमेरिका में इरी और ह्यूरन झील को जोड़ती है। 9. वेलेन्ड नहर : यह एरी और ओन्टारियों झीलों के बीच की दूरी कम करती है।

Share this page

विश्व के संसाधन ( World resources )

खनिज संसाधन एवं उत्पादक देश

लौह अयस्क 

मुख्य अयस्क : मैग्नेटाइट, हेमेटाइट, लिमोनाइट, सिडेराइट एवं पायराइट। 

प्रमुख खनन केन्द्र 

  • पूर्व सोवियत संघ–क्रिवॉ राग (यूक्रेन), मैग्निटोगोर्क पर्वत
  • तथा कुजनेत्स (रूस) 
  • ब्राजील-मिनास जैरास प्रान्त की इटाबिरा पहाड़ियां 
  • चीन-मंचुरिया, शान्तुंग, शान्सी
  • अमेरिका-सुपीरियर झील प्रदेश (मेसाबी रेंज) 
  • ऑस्ट्रेलिया-पिलबारा क्षेत्र
  • स्वीडन-किरूना व गैलीबार क्षेत्र
  • दक्षिण अफ्रीका-पोस्टमासवर्ग क्षेत्र, ट्रांसवाल

प्रमुख उत्पादक देश चीन, ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया, रूस, भारत 

मैंगनीज

मुख्य अयस्क-पाइरोल्युसाइट, साइलोमेलीन, ब्रोनाइट 

प्रमुख खनन केन्द्र

  • पूर्व सोवियत संघ–निकोपोल (यूक्रेन) एवं चैतुरा 
  • ब्राजील-अमापा क्षेत्र 
  • गैबोन-माओड खान 
  • दक्षिण अफ्रीका-पोस्टमासवर्ग, किम्बरले

प्रमुख उत्पादक देश  चीन, दक्षिण अफ्रीका, गैबन

तांबा

मुख्य अयस्क : चेल्कोपाइराइट, चेल्कोसाइट, बोनाईट, क्यूप्राइट, मैचेलाइट व एजुराइट 

प्रमुख खनन केन्द्र 

  • चिली–चुक्वीकमाटा पर्वत 
  • अमेरिका–एरिजोना प्रांत, मोताना प्रांत का बूटी क्षेत्र
  • कनाडा-ओंटारियो का सैडबरी जिला 
  • आस्ट्रेलिया माउंट मोरगन व माउंट ईसा 
  • जायरे-कटंगा क्षेत्र
  • दक्षिण अफ्रीका ट्रांसवाल, केप प्रान्त 

प्रमुख उत्पादक देश • चिली, संयुक्त राज्य अमेरिका, इण्डोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया 

एल्युमिनियम

मुख्य अयस्क-बॉक्साइट 

प्रमुख खनन केन्द्र • 

  • ऑस्ट्रेलिया-केपयार्क प्रायद्वीप, वाइपा क्षेत्र
  • अमेरिका-अरकन्सास राज्य का सेलाइन काउंटी क्षेत्र 
  • जमैका-सेंट एलिजाबेथ व सैंटमेरी क्षेत्र 
  • पूर्व सोवियत संघ–कोला प्रायद्वीप 
  • गिनी-बोको व बरूका द्वीप
  • दक्षिण अफ्रीका-उत्तर नटाल प्रान्त 

प्रमुख उत्पादक देश (बॉक्साइट) • ऑस्ट्रेलिया, चीन, ब्राजील, भारत

सोना 

प्रमुख खनन केन्द्र

  • दक्षिण अफ्रीका-जोहान्सवर्ग की विटवासरैंड पहाड़ी में, बोक्सवर्ग व ओरेंज फ्री स्टेट, किम्बरले 
  • अमेरिका-साल्ट लेक क्षेत्र व अलास्का 
  • ऑस्ट्रेलिया-माउंट मोरगन, कालगूर्ली व कूलगार्डी

प्रमुख उत्पादक देश • चीन, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका

चांदी • 

मुख्य अयस्क-अगेंटाइट 

प्रमुख खनन केन्द्र

  • मैक्सिको-चिहुआहुआ, हिल्डाहो 
  • कनाडा-ओंटारियो, ब्रिटिश कोलंबिया, क्यूबेक
  • अमेरिका-उटाह, मोंटाना, एरीजोना, कोलोरेडो 
  • ऑस्ट्रेलिया-माउंट ईसा, कालगूर्ली, ब्रोकेन हिल 
  • बोलीविया-पोटोसी
  • दक्षिण अफ्रीका-ट्रांसवाल व नटाल प्रान्त 

प्रमुख उत्पादक देश • मैक्सिको, पेरू, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया

टिन • 

मुख्य अयस्क-कैसेटेराइट 

प्रमुख खनन केन्द्र • 

  • मलेशिया-सेलांगोर, पेनांग द्वीप, जेलुबु घाटी
  • इंडोनेशिया-बांका, मलक्का जलसन्धि 
  • चीन-युन्नान, हुन्नान प्रान्त
  • म्यांमार-शान पठार, कायिन्नी पठार

प्रमुख उत्पादक देश • चीन, इंडोनेशिया, पेरू

सीसा • 

मुख्य अयस्क-गैलेना

प्रमुख खनन केन्द्र

  • ऑस्ट्रेलिया-ब्रोकेन हिल, माउंट ईसा (क्वीन्सलैंड) 
  • कनाडा-सैडबरी
  • पेरू-सेरा-डी-पास्को 

प्रमुख उत्पादक देश

ऑस्ट्रेलिया, चीन, अमेरिका

जस्ता

मुख्य अयस्क-कैलेमीन 

प्रमुख खनन केन्द्र

  • ऑस्ट्रेलिया-ब्रोकेन हिल व माउंट ईसा
  • कनाडा-ब्रिटिश कोलंबिया 

प्रमुख उत्पादक देश ऑस्ट्रेलिया, चीन, कनाडा हीरा 

प्रमुख खनन केन्द

  • दक्षिण अफ्रीका–किम्बरले (जोहांसवर्ग), केपटाउन 
  • जायरे-कटंगा पठार
  • भारत-पन्ना व गोलकुंडा की खानें 

प्रमुख उत्पादक देश

ऑस्ट्रेलिया, कांगो रिपब्लिक, बोत्सवाना

प्रमुख खनन केन्द्र

  • अमेरिका-अप्लेशियन कोयला क्षेत्र 
  • पूर्व सोवियत संघ-डोनेट्ज बेसिन (यूक्रेन), कुजनेत्स्क बेसिन, करगंडा 
  • चीन-शांसी, शेन्सी, जेचवान बेसिन ऑस्ट्रेलिया न्यू साउथ वेल्स, क्वीनसलैंड व विक्टोरिया प्रान्त
  • जर्मनी-रूर बेसिन व वेस्टाफिलिया क्षेत्र 
  • दक्षिण अफ्रीका-ट्रांसवाल व नटाल प्रान्त 

प्रमुख उत्पादक देश • चीन, अमेरिका, भारत पेट्रोलियम

प्रमुख खनन केन्द्र

  • सं. रा. अमरीका-अप्लेशियन क्षेत्र, गल्फ तटीय क्षेत्र, कैलिफोर्निया क्षेत्र
  • सऊदी अरब-दम्माम, घावर व धहरान (रासांतुरा में तेल शोधन केन्द्र) 
  • कुवैत-बुरघान पहाड़ी (विश्व का वृहतम् संचित भंडार) 
  • ईरान-लाली, करमशाह, नफ्त सफिद, हफ्ज फेल, गच सारन 
  • पूर्व सोवियत संघ-वोल्गा-यूराल क्षेत्र, बाकू क्षेत्र
  • इराक-किरकुक, मोसुल बसरा, तिकरित
  • वेनेजुएला-मराकैबो झील प्रदेश, ओरिनिको बेसिन व अपूरे बेसिन 

प्रमुख उत्पादक देश • सऊदी अरब, रूस, अमेरिका, ईरान प्राकृतिक गैस प्राकृतिक गैस एवं खनिज तेल एक ही स्थान पर मिलते हैं। 

इसके अलावा प्राकृतिक गैस कुछ मात्रा में स्वतंत्र रूप में भी पाई जाती है।

 विश्व में स्वतंत्र राष्ट्रों के राष्ट्रकुल के पास प्राकृतिक गैस का सबसे बड़ा संचित भंडार है। 

प्रमुख उत्पादक देश • रूस, अमेरिका, कनाडा

परमाणु खनिज • 

मुख्य स्रोत-यूरेनियम तथा थोरियम 

मुख्य खनन केन्द्र

  • कनाडा-अथाबस्का झील तथा ग्रेट बियर झील के पास क्रमशः यूरेनियम सिटी तथा पोर्ट रेडियम 
  • सं. रा. अमेरिका-कोलरैडो का पठार 
  • द. अफ्रीका-विटवाटर्सरैंड पहाड़ी
  • जायरे-कटंगा पठार 

प्रमुख उत्पादक देश • ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका, जायरे

विश्व के प्रमुख औद्योगिक केंद्र

देश औद्योगिक केंद्रउद्योग
Share this page

विश्व कृषि ( World agriculture )

विश्व की प्रमुख फसलें एवं उनके उत्पादक देश

फसलेंउत्पादक देश
चावलचीन, भारत, इण्डोनेशिया, बंग्लादेश, वियतनाम, थाईलैण्ड
गेहूंचीन, भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, यूक्रेन
जौरूस, जर्मनी, कनाडा
जई/ओटरूस, कनाडा, अमेरिका
मक्काअमेरिका, चीन, ब्राजील, मैक्सिको
तिलहनअमेरिका, चीन, भारत
सोयाबीनअमेरिका, ब्राजील, चीन
गन्नाभारत, ब्राजील, थाईलैण्ड, चीन
चुकन्दरफ्रांस, जर्मनी, अमेरिका
चायभारत, चीन, श्रीलंका
कहवाब्राजील, वियतनाम, कोलंबिया
कपासचीन, अमेरिका, भारत, पाकिस्तान
तम्बाकूचीन, अमेरिका, भारत, ब्राजील
रबड़थाईलैण्ड, इण्डोनेशिया, मलेशिया, भारत, चीन
कोकोआआइवरी कोस्ट, कोस्टारिका, इक्वाडोर
दलहनभारत, ब्राजील, चीन

विश्व की स्थानांतरण कृषि

नामक्षेत्र
कोनूको वेनेजुएला
रोकाब्राजील
कैंगिनफिलीपींस
तुंग्या म्यांमार
चेन्नाश्रीलंका
लेदांग जावा तथा मलेशिया
तमराई थाईलैंड
हुमाइण्डोनेशिया तथा जावा
रेवियतनाम तथा लाओस
तावीमेडागास्कर

कृषि के कुछ वैज्ञानिक शब्द

1. विटीकल्चर : अंगूरों की कृषि 

2. पीसीकल्चर/एक्वाकल्चर : मत्स्यपालन 

3. सेरीकल्चर : मलबेरी पेड़ों के साथ रेशम उत्पादन 

4. हॉर्टीकल्चर : विभन्न फलों का उत्पादन 

5. ओलिवीकल्चर : जैतून की कृषि 

6. आरबोरीकल्चर : विभन्न प्रकार के वृक्षों तथा झाड़ियों की कृषि 

7. एपीकल्चर : मधुमक्खीपालन 

8. फ्लोरीकल्चर : फूलों की कृषि 

9. सिल्वीकल्चर : वनों के संवर्द्धन व संरक्षण से संबंधित क्रिया 

10. वेजीकल्चर : दक्षिण पूर्व एशिया में आदिम मान द्वारा की गई प्रारंभिक कृषि 

11. नेमरीकल्चर : एक आदिम कृषि जिसमें जड़, तना, फल व फूल इकट्ठा किए जाते थे। 

12. ओलेरीकल्चर : सब्जियों की कृषि 

13. मेरीकल्चर : समुद्री जीवों (झांगा, आइस्टर आदि) के उत्पादन की क्रिया 

14. हॉर्सीकल्चर : उन्नत प्रजाति के घोड़ों व खच्चरों का पालन 

15. वर्मीकल्चर : केंचुआ पालन

16. मोरीकल्चर : शहतूत की कृषि (रेशम पालन के लिए) 

17. एरीपोनिक : पौधों को हवा में उगाना 

18. पोमोलॉजी : फल विज्ञान

पशुपालन

दुग्ध एवं दुग्ध उत्पाद 

  • भारत विश्व का सबसे बड़ा दुग्ध उत्पादक है।
  • दूध के अन्य उत्पादक : अमेरिका, कनाडा, रूस, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड। 

मांस 

  • मांस मुख्यतः गाय, बैल, भैंस, बकरी, तथा सुअर से प्राप्त किया जाता है। अर्जेन्टीना, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, आदि देश मांस उत्पादन के लिए प्रसिद्ध हैं । 
  • ये मांस उत्पादन में विश्व में क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान रखते हैं।

ऊन 

  • भेड़, बकरी, ऊंट, लामा, आदि से प्राप्त किये जाते हैं। 
  • उत्पादन की मात्रा व गुणवत्ता की दृष्टि से भेड़ का ऊन सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। 
  • ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, अर्जेन्टीना व दक्षिण अफ्रीका ऊन उत्पादन और निर्यात की दृष्टि से सर्वाधिक महत्वपूर्ण देश हैं। 
  • भेड़ पालन के लिए शुष्क और शीतोष्ण जलवायु की आवश्यकता होती है, जहां छोटी-छोटी घासें उगती हैं। 
  • ऑस्ट्रेलिया के मर्रे-डार्लिंग बेसिन में पाली जाने वाली ‘मेरिनो’ भेड़ें सर्वश्रेष्ठ कोटि का ऊन प्रदान करती हैं।
Share this page