करौली का इतिहास (यादव वंश) ( History of Karauli (Yadav dynasty )

– करौली में यादवों की ‘जादौन’ शाखा थी। 

विजयपाल 

– 1040 ई. में बयाना को जीतकर इसे अपनी राजधानी बनाता हैं। और यादवों की जादौन शाखा का शासन प्रारम्भ करता हैं। 

अर्जुनपाल: 

– कल्याणपुर नामक नगर की स्थापना करता हैं। 

धर्मपाल 

– कल्याणपुर का नाम करौली रखकर उसे अपनी राजधानी बनाता हैं। 

गोपालपाल

– करौली में ‘मदन मोहन जी का मंदिर’ बनवाता हैं। यह गौड़ीय सम्प्रदाय की राजस्थान की दूसरी प्रमुख पीठ

हरबक्शपाल 

– इसने अंग्रेजों के साथ 1817ई. में संधि कर ली। 

मदनपाल 

– 1857 ई. में क्रांति में कोटा महाराव की मदद की थी। अग्रेजो ने 17 तोपो की सलामी दी। 

– स्वामी दयानन्द सरस्वती सबसे पहले (राजस्थान में) करौली मदनपाल जी के निमत्रंण पर आए थे।

Share this page

Leave a Comment