मुस्लिम त्यौहार ( Muslim festival )

– मुस्लिम त्यौहार ‘हिजरी संवत्’ के अनुसार मनाए जाते हैं। 

– 622 ई. में मोहम्मद साहब मक्का छोड़कर मदीना गये थे, इसी दिन से हिजरी संवत् का प्रारम्भ माना जाता

1. मोहर्रमः 

– हिजरी संवत् का पहला महीना 

– मोहर्रम की 10 वीं तारीख को हजरत मोहम्मद साहब के नवासे हुसैन करबला के मैदान में शहीद हो गये

थे, इसलिए इस दिन ताजिये निकाले जाते हैं। 

– 27 वीं तारीख को गलियाकोट (डूंगरपुर) में सैय्यद फखरूद्दीन का उर्स। 

2. सफरः 

– 20 वीं तारीख को चेहल्लम मनाते हैं। (हुसैन के चालीस दिन पूरे हुये थे।) 

3. रबी – उल – अव्वल। 

– 12 वीं तारीख को बारावफात (ईद- मिलादुलनवी) मनाते हैं। 

– हजरत मोहम्मद साहब का जन्म (570ई.) व मृत्यु (632ई.) इसी दिन हुयी थी। 

4. रबी – उस सानी 

5. जमात – उल – अव्वल 

6. जमात उस सानी 

– 8वीं तारीख को ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती का जन्मदिन। (संजरी- फारस) 

7. रज्जब – 1 से 6 तारीख तक ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती का उर्स। 

– इस उर्स में भीलवाड़ा का गौरी परिवार बुलन्द दरवाजे पर झंडा चढ़ाता हैं। 

8. शाबान – शाबान महीने की 14 वीं तारीख हजरत मोहम्मद साहब की खुदा से मुलाकात हुयी थी, इसलिए इसको शब (शत) – बरात कहते हैं। 

– मुसलमान इस दिन अपने कर्मो का प्रायश्चित करते हैं। 

– मक्का की हीरा पहाड़ी पर मुसलमान एकत्रित होते हैं। 

9. रमजान – मुसलमान, इस महीने में रोजे रखते हैं। 

– रमजान की 27 वीं तारीख को ‘शवे कद्र’ कहते हैं इस दिन कुरान शरीफ का धरती पर अवतरण हुआ था। 

10. शव्वाल

– शव्वाल की पहली तारीख को ईद-उल-फितर, (मीठी ईद) / सेवईयों की ईद मनाया जाता हैं। 

– यह भाईचारे का त्यौहार हैं। 

11. जिल – कद्र 

12. जिल्हिज 

– 10वीं तारीख को ईद-उल-जुहा- बकर ईद/कुर्बानी का त्यौहार होता हैं।

 – इस महीने में मुसलमान हज के लिए जाते हैं। 

– जिल्हिज की 8 से 10 तारीख तक हज के लिए जाते हैं।

Share this page

Leave a Comment